Quantcast
Channel: TwoCircles.net - हिन्दी
Viewing all articles
Browse latest Browse all 597

बिहार चुनाव : जिला औरंगाबाद में किसका चलेगा जादू?

0
0

अफ़रोज़ आलम साहिल, TwoCircles.net

औरंगाबाद:औरंगाबाद बिहार के महत्वपूर्ण ज़िलों में से एक है. अपने जीवंत अतीत से अपनी आभा व करिश्मे के बल पर यह ज़िला किसी पर भी जादू चला सकता है. लेकिन इस बार विधानसभा चुनाव में यहां किसका जादू चलेगा, यह बिल्कुल भी स्पष्ट नहीं है.


.

तमाम दल यहां अपनी पूरी ताक़त झोंक रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की भी यहां सभा हो चुकी है. गृहमंत्री राजनाथ सिंह से लेकर अमित शाह व तमाम केन्द्रीय मंत्री इस धरती पर चुनाव प्रचार कर चुके हैं. वहीं महागठबंधन के लालू प्रसाद हो या बसपा की मायावती या फिर शिवसेना के संजय राउत, सभी यहां आकर अपने पार्टी के पक्ष में वोट मांग चुके हैं. अब देखना दिलचस्प होगा कि यहां की जनता किसे अपना वोट देकर जीत का सेहरा पहनाती है.

औरंगाबाद के शिवेन्द्र बताते हैं, ‘इस बार यहां की जनता उसे ही वोट देगी, जो इस क्षेत्र का विकास करेगा.’ वो आगे बताते हैं कि नीतिश सरकार में यहां विकास के कई काम हुए हैं. सिर्फ औरंगाबाद ब्लॉक में 80 सड़कों का निर्माण हुआ है. कई बांध बने हैं और कई के निर्माण को मंजूरी मिली है. 50 गांवों में तार पोल और ट्रान्सफार्मर बदले गए हैं.


.
.

लेकिन मो. वाजिद का कहना है, ‘इस बार परिवर्तन बहुत ज़रूरी है.’ हालांकि उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि वो राज्य में परिवर्तन की बात कर रहे हैं या सिर्फ औरंगाबाद में. क्योंकि पिछले तीन टर्म से भाजपा के रामधार सिंह औरंगाबाद के विधायक हैं.

स्पष्ट रहे कि औरंगाबाद ज़िले में 6 विधानसभा क्षेत्र हैं और अगर आंकड़ों की बात करें तो पिछले विधानसभा चुनाव में 4 सीटों पर जदयू की जीत हुई थी. 1 सीट भाजपा व 1 सीट निर्दलीय उम्मीदवार के झोली में गई थी. वहीं यहां 4 सीटों पर राजद दूसरे नंबर पर रही, तो 1 सीट पर जदयू व 1 सीट पर लोजपा दूसरे नंबर पर रही.

यानी समीकरण बता रहे हैं कि पिछले चुनाव में यहां समाजवादियों का बोलबाला अधिक रहा. हालांकि यह भी नहीं भूलना चाहिए पिछला चुनाव जदयू और भाजपा ने साथ मिलकर लड़ा था. लेकिन अब समीकरण बदल चुका है. जदयू व राजद एक साथ हैं तो वहीं लोजपा भाजपा के साथ.


.

ऐसे में कम से कम यह तो ज़रूर स्पष्ट है कि यहां महागठबंधन के मुक़ाबले एनडीए गठबंधन को अधिक मेहनत करना पड़ेगा, जो कि एनडीए कर भी रही है. और लोगों की शिकायत है कि जब बात विकास के मुद्दों पर नहीं बन पा रही है तो वोटों के ध्रुवीकरण करने वाले हथकंडे भी बखूबी अपनाए जा रहे हैं.

दाऊदनगर के निवासी नसीम अहमद का कहना है, ‘पहले यहां के लोगों में नक्सली वारदातों का डर रहता था. जिसका मुक़ाबला हिन्दू-मुसलमान दोनों मिलकर करते थे, पर अब डर दंगों का रहता है. कब कुछ मतलबी लोग यहां के लोगों को आपस में लड़ा दें, कुछ कहा नहीं जा सकता.’

नसीम बताते हैं, ‘अभी गेवल बिगहा गांव में बकरीद के दिन जानवरों की क़ुर्बानी को लेकर साम्प्रदायिक तनाव का माहौल बना था. मई महीने में भी हमारे इलाक़े में पशु विवाद को लेकर मुसलमानों पर हमला किया गया था. 23 साल के क़ादिर को उन लोगों ने मार दिया. कई लोग घायल हुए. इस दिन को याद करके रूह दहल जाता है. आज यहां सबके दिलों में डर बसा रहता है.’


.

वो बताते हैं कि पिछले साल नवम्बर महीने में भी इसी दाऊदनगर में कुछ शरारती लोगों ने एक धार्मिक स्थल तोड़कर साम्प्रदायिक तनाव फैलाया था. इसमें भी कई लोग घायल हुए. दुकानों को लूट लिया गया.

स्थानीय पत्रकार अकमल अहमद बताते हैं कि छोटी-छोटी बातों पर साम्प्रदायिक तनाव पैदा कर देना यहां आम बात है. अगस्त महीने की ही कहानी है. कुटुंबा में क़ब्रिस्तान की ज़मीन को लेकर तनाव बनाया गया. उससे पहले कझपा गांव में मोबाईल रिजार्च कराने को लेकर मारपीट हुई और उसे फिर एक साम्प्रदायिक रंग दे दिया गया.

खैर, औरंगबाद की एक खास बात यह है कि यह कभी वामपंथ का गढ़ रहा है. कभी लोग इसे मगध के लेनिनग्राद के नाम से जानते थे. लेकिन वामपंथ का क़िला यहां पिछले चुनाव में ही ध्वस्त हो चुका है. पिछले चुनाव में ही हालात इतने बुरे हो गए थे कि ओबरा विधानसभा क्षेत्र को छोड़कर किसी क्षेत्र में चार अंकों से अधिक वोट नहीं मिल पाएं. सिर्फ ओबरा में 18 हज़ार वोट हासिल करके माले तीसरे नंबर पर रहा था. इस बार वामपंथियों की लड़ाई अपने इस दरकते क़िले के अस्तित्व को बचाना का भी होगा. वैसे माना जा रहा है कि सिर्फ़ गोह विधानसभा क्षेत्र वामपंथ कुछ कर गुज़रने के मूड में दिख रही है.

वैसे कांग्रेस भी इस जिले में पिछले 20 सालों से एक सीट के लिए तरस रही है. इस बार दो विधानसभा क्षेत्र यानी औरंगाबाद व कुटुंबा (आरक्षित सीट) से कांग्रेस अपनी किस्मत की आज़माईश कर रही है. लड़ाई महागठबंधन बनाम एनडीए के हो जाने से स्थिति काफी बेहतर है. कांग्रेसियों का मानना है कि इस बार क़िला फ़तह होना लगभग तय है.

भविष्य में क्या होगा, यह 8 नवम्बर को आने वाले नतीजे ही बेहतर बताएंगे. औरंगाबाद ज़िले के 6 सीटों पर चुनाव दूसरे चरण यानी 16 अक्टूबर को है.


aurangabad


kunduba


nabinagar


rafiganj


abera


goh

Viewing all articles
Browse latest Browse all 597

Latest Images

Trending Articles


दिन में 4-5 बार हस्तमैथुन करता हूं, इसे कम करने के लिए क्या करूं?


खस्ता बेड़मी का चटपटा स्वाद


‘आपहुदरी’: ‘अपने शर्तों पर जीने की आत्मकथा’


मधुबनी : मैथिली लोक उत्सव का हो रहा आयोजन


राजा जवाहरसिंह भरतपुर एवं महाराजा माधोसिंह जयपुर के मध्य मावंडा मंडौली युद्ध


हिन्दी लघुकथा में समीक्षा की समस्याएँ एवं समाधन


हनीमून पर जा रहे कपल ट्रेन में हो गये कामुक फिर...


गुरुशरण सिंह : इन्कलाब का जुझारू संस्कृतिकर्मी .


कैश मेमोरी क्या है और कैसे काम करती है What Is Cache Memory And How Does It...


सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान पर विविध कार्यक्रम





Latest Images